Feeds:
Posts
Comments

Archive for December, 2007

शीशा

सन्नाटे की मौत बर्दाश्त नहीं मुझे,
शीशा हूँ टूट कर भी खनक छोङ जाउँगा

– अग्यात

Read Full Post »